सौर मंडल किसे कहते हैं ? आइये इसके बारे में समझते हैं कुछ रोचक तथ्य – Saurmandal Kise Kahate Hain | What is Solar System in Hindi

1 0
Read Time:11 Minute, 55 Second

Saurmandal Kise Kahate Hain , What is Solar System in Hindi , solar system in Hindi , Solar System kya hai , Solar System in Hindi , Full information about solar system

सौर मंडल किसे कहते हैं ? (saurmandal kise kahate hain )

सौर मंडल में सूर्य और वह खगोलीय पिण्ड सम्मलित हैं जो सूर्य की परिक्रमा करते हैं । अर्थात सौरमंडल सूर्य और उसकी परिक्रमा करते ग्रह, उपग्रह, छुद्र ग्रह, उल्का पिण्ड, धूमकेतु तथा धूल और गैसों से मिलकर बना हुआ है , जो इस मंडल में एक दूसरे से गुरुत्वाकर्षण द्वारा बंधे हुए हैं। सौर मंडल के केंद्र में हमारा सूर्य स्थित है , तथा ये सौरमंडल का सबसे बड़ा तारा भी है।

What is Solar System in Hindi

Saurmandal Kise Kahate Hain

सूर्य:-

सूर्य सौरमंडल का मुखिया है जोकि मंदाकिनी गैलेक्सी में अवस्थित है। आकाशगंगा के अरबों तारों में सूर्य भी एक तारा है। अन्य तारों की भाँति सूर्य में भी विशाल ऊर्जा व ऊष्मा का स्रोत है, जोकि नाभिकीय संलयन द्वारा संपन्न होती है। प्रत्येक तारे में हाईड्रोजन व हीलियम 90% से अधिक होती है। जब हाइड्रोजन के 4 नाभिक संलयित होकर 1 हीलियम नाभिक का निर्माण करते हैं तो इस अभिक्रिया में अपार ऊर्जा मुक्त होती है जिसे नाभिकीय संलयन कहते हैं। और यही सूर्य की ऊर्जा का स्रोत है।

फोटोस्फीयर ( प्रकाश मंडल) :-

सूर्य का वह भाग जो हमें दिखाई देता है उसे हम फोटोस्फीयर कहते हैं । सूर्य के बाहरी सतह से निकलने वाली प्रबल विद्युत चुम्बकीय विकिरण जो सूर्य के गुरुत्वाकर्षण शक्ति को पार कर अंतरिक्ष में निकल जाती हैं, सौर ज्वाला कहलाती हैं। सूर्य के अंदर वाली सतह को क्रोमोसफीयर कहते हैं।

कोरोना :-

सूर्य ग्रहण के समय दिखाई देने वाला बाहरी चमकता हुआ भाग कोरोना कहलाता है।

(1) धरती से सूर्य की औसत दूरी लगभग 14.98 करोड़ k.m. है।

(2) सूर्य से पृथ्वी तक प्रकाश आने में 8 मिनट 28 सेकेंड लगते हैं।

(3) दूरी को मापने की सबसे बड़ी इकाई पारसेक होती है।

1 पारसेक =3.6 प्रकाश वर्ष

(4) सूर्य की वर्तमान आयु 5 अरब वर्ष है।

(5) किसी भी तारे की जीवन अवधि अनुमानत: 10 बिलियन वर्ष अर्थात 10 अरब वर्ष होती है।

(6) सूर्य में सबसे ज्यादा तापमान उसके केंद्र पर 15 बिलियन वर्ष होता है।

( 7)पृथ्वी की तुलना में सूर्य का 110 गुना व्यास अधिक है।

What is Solar System in Hindi

आइये जानते हैं ग्रहों के बारे में :-

ग्रहों में स्वयं की ऊर्जा व स्वयं का प्रकाश दोनों नहीं होते है। ग्रह सूर्य से ऊर्जा अवशोषित कर चमकते हैं। ग्रह सूर्य से निकले ही पिण्ड हैं जो सूर्य की परिक्रमा करते हैं। सूर्य के चारों तरफ चक्कर लगाने वाले 8 ग्रह हैं जो कि सूर्य से दूरी के आधार पर उपस्थित हैं ।

(1) बुध (2) शुक्र (3) पृथ्वी (4) मंगल (5) ब्रहस्पति (6) शनि (7) अरुण (8) वरुण

आकार के आधार पर सबसे बड़े ग्रहों का क्रम :-

(1) ब्रहस्पति (2) शनि (3) अरुण (4) वरुण (5) पृथ्वी (6) शुक्र (7) मंगल (8) बुध

आंतरिक ग्रह किसे कहते हैं ?

बुध , शुक्र , पृथ्वी और मंगल ये सभी ग्रह आंतरिक ग्रहों के अंतर्गत आते हैं ।इन्हे पार्थिव ग्रह भी कहते हैं क्योंकि इसमें चट्टानें पाई जाती हैं इसलिए इन्हें भारी ग्रह भी कहते हैं। सौर पवनों के चलनें के कारण इन चारों ग्रहों पर गैस व धूल की कम मात्रा पाई जाती है। इसलिए यहाँ वायुमंडल का निर्माण सम्भव हो सकता है। आंतरिक ग्रहों पर बाहरी ग्रहों की अपेक्षा कम गुरुत्वाकर्षण पाया जाता है।

बाहरी ग्रह किसे कहते हैं ?

ब्रहस्पति , शनि , अरुण और वरुण ये सभी ग्रह बाहरी ग्रहों के अंतर्गत आते हैं । इन्हें जोबियन ग्रह या गैसीय ग्रह भी कहते हैं। यह सूर्य से काफी दूर होते हैं सूर्य से दूर होने के कारण इनका तापमान कम होता है। इन ग्रहों पर अत्यधिक मात्रा में धूल और गैस होने के कारण यह वायुमंडल संभव नहीं है। बाहरी ग्रहों पर गुरुत्वाकर्षण अधिक पाया जाता है।

बुध ग्रह (Mercury) :-

(1) बुध को वाणीज्य एवं निपुणता का ग्रह भी कहते हैं।

(2) यह सूर्य का सबसे निकट ग्रह है।

(3) यह आकार में सबसे छोटा ग्रह है।

(4) बुध सूर्य की परिक्रमा 88 दिन में पूरी करता है। तथा यह ग्रह अन्य ग्रहों की अपेक्षा सूर्य की परिक्रमा सबसे जल्दी पूरी करता है।

(5) बुध के पास कोई उपग्रह नहीं है।

सभी ग्रहों में इसका तापांतर सर्वाधिक है।

बुध ग्रह के दिन का तापमान 427°C है तथा रात में बुध ग्रह का तापमान – 173°C है। इसी कारण यहाँ पर वायुमंडल का अभाव है व यहाँ पर जीवन संभव नहीं है।

यहाँ पर प्रसुप्त ज्वालामुखी , क्रेटर पाये जाते हैं।

शुक्र ( Venus ) :

(1) शुक्र को सुंदरता की देवी भी कहा जाता है। तथा इसे भोर का तारा व साँझ का तारा भी कहते हैं।

(2) इसे पृथ्वी की जुडवां बहन भी कहते हैं क्योंकि पृथ्वी और शुक्र का आकार , घनत्व और व्यास लगभग एक जैसा ही है।

(3) शुक्र ग्रह पूर्व से पश्चिम की तरफ मूव करता है और यहाँ सूर्योदय पश्चिम दिशा में होता है।

(4) इसे सर्वाधिक गर्म ग्रह भी माना जाता है क्योंकि यहाँ पर कार्बनडाईऑक्साइड तथा सल्फर डाई ऑक्साइड (90% से अधिक) के बादल पाये जाते हैं ।

(5) सौरमंडल का सर्वाधिक चमकने वाला ग्रह शुक्र है।

(5) सूर्य से दूरी 108 मिलियन k.m. है।

(6) यह अपने अक्ष पर लगभग 243 दिन में घूर्णन करता है।

(7) शुक्र सूर्य की परिक्रमा 225-255 दिन में पूरी करता है।

(8) शुक्र का कोई उपग्रह नहीं है।

पृथ्वी ( Earth ) :-

(1) पृथ्वी पर जल की अधिकता के कारण इसे नीला ग्रह तथा जीवन ग्रह भी कहते हैं।

(2) पृथ्वी अपने अक्ष पर परिभ्रमण 24 घंटे में पूरा करती है।

(3)पृथ्वी सूर्य की परिक्रमा 365 दिन 6 घंटे में पूरा करती है।

(4) पृथ्वी अपने अक्ष पर साढ़े तेइस डिग्री झुकी हुई है।

(5) पृथ्वी की आकृति गोलाभ है।

(6) सूर्य से पृथ्वी की दूरी 149.6 million k.m. है।

मंगल ( Marsh ) :-

(1) मंगल ग्रह को लाल ग्रह या युद्ध का देवता भी कहते हैं।

(2) इसको घूर्णन करने में लगभग 24 घंटे लगते हैं।

(3) यह सूर्य की परिक्रमा 687 दिन में करता है।

(4) यह अपनी धुरी पर 25° झुका हुआ है।

(5) आयरन ऑक्साइड की अधिकता के कारण यहाँ की मिट्टी लाल है इसलिए इसे लाल ग्रह कहते हैं।

(6)मंगल ग्रह के दो उपग्रह हैं – (1) फोबोस (2) डिमोस

(7) डीमोस सौरमंडल का सबसे छोटा उपग्रह है।

(8) मंगल की सूर्य से दूरी लगभग 228 मिलियन k. M. है ।

(9) मंगल ग्रह पर सौरमंडल का सबसे ऊंचा जागृत ज्वालामुखी ओलंपस मोंस पाया जाता है।

(10) सौरमंडल का सबसे ऊंचा पर्वत निक्स ओलंपिया मंगल ग्रह पर है।

ब्रहस्पति ( Jupitar ) :-

(1) इस ग्रह को पीला ग्रह भी कहते हैं। तथा देवताओं का ग्रह कहते हैं।

(2) सौरमंडल का ब्रहस्पति सबसे बड़ा ग्रह है।

(3)यह अपने अक्ष पर घूर्णन 9 घन्टे 56 मिनट में करता है।

(4) ब्रहस्पति सूर्य की परिक्रमा लगभग 12 वर्ष में पूरी करता है।

(5) ब्रहस्पति की सूर्य से दूरी लगभग 778.5 मिलियन k. m. है।

(6) यह सौरमंडल का सबसे भारी ग्रह है।

(7) इसके उपग्रहों की संख्या 79 है। तथा इसका सबसे बड़ा उपग्रह गैनीमेड है। इसक मुख्य उपग्रह इस प्रकार हैं – (1) गैनीमेड (2) यूरोपा (3) कैलिस्टो (4) आयो इन चारों उपग्रहों को गैललियो उपग्रह भी कहते हैं।

(8) इस ग्रह पर हाइड्रोजन ,हीलियम तथा मेथेन गैस की अधिकता है।

शनि (Saturn) :-

(1) शनि को कृषि का देवता और काला ग्रह भी कहते हैं।

(2) यह अपने अक्ष पर घूर्णन 10 घंटे 40 मिनट में पूरा करता है।

(3) शनि सूर्य की परिक्रमा लगभग 29 वर्ष में पूरी करता है।

(4) सूर्य से शनि ग्रह की दूरी 1487 million k. M. है। अधिक दूरी होने के कारण यह ग्रह ठंडा है।

(5) शनि ग्रह के 82 उपग्रह खोजे जा चुके हैं।

(6) शनि का सबसे बड़ा उपग्रह टाइटन है।

(7) शनि का घनत्व बहुत कम है।

(8) शनि का एक उपग्रह फोबे जो उल्टी दिशा में मूव करता है।

(9) शनि ग्रह के पास स्वयं की वलय पायी जाती हैं।

अरुण (Urenus) :-

(1) अरुण को लेटा हुआ ग्रह या स्वर्ग का देवता कहते हैं।

(2) यहाँ पर मीथेन गैस की अधिकता के कारण इसे हरित ग्रह भी कहते हैं।

(3) यह अपने अक्ष पर घूर्णन 17 घंटे 14 मिनटमें पूरा करता है

(4) यह सूर्य की परिक्रमा 84 वर्ष में पूरी करता है।

(5) सूर्य से वरुण की दूरी 2870 million k.m है।

(6) अधिक झुका होने के कारण लेटा हुआ प्रतीत होता है।

(7) अरुण के उपग्रह 27 हैं।

(8) अरुण के पास भी वलय है।

वरुण ( Neptune) :-

(1) इसे सागर का देवता भी कहते हैं।

(2) यह अपने अक्ष पर घूर्णन लगभग 16 ya 19 घंटे में पूरी करता है।

(3) यह सूर्य की परिक्रमा 164 वर्ष में पूरी करता है।

(4) वरुण की सूर्य से दूरी 449 करोड़ 83 लाख है।

(5)अरुण व वरुण ग्रह को जुड़वा ग्रह भी कहते हैं।

(6) वरुण ग्रह के उपग्रह 13 हैं।

About Post Author

Akansha Singh

I'm Akansha Singh , Content writer on careerjankari.in . Now I'm working with Career Jankari .
Happy
Happy
100 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Akansha Singh

I'm Akansha Singh , Content writer on careerjankari.in . Now I'm working with Career Jankari .

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply