Career in Nursing से जुड़ी सारी जानकारी

0 0
Read Time:15 Minute, 20 Second

Nursing इन दिनों एक उजले करियर के रूप में सामने आया है। यह एक ऐसा कोर्स है जिसे गांवों से लेकर शहर तक की छात्र करना पसंद करते हैं। नर्सिंग का कोर्स वे लोग भी रना चाहते हैं जो समाज की सेवा करना चाहते हैं। नर्स वे कार्य करती है जो डॉ भी नहीं करते हैंं। अगर देखा जाए तो डॉ भी नर्स के बिना कुछ नहीं कर सकता है। आप नर्सिंग का कोर्स करके लोंगो की सेवा कर सकते हैं। नर्स का कार्य बहुत ही उत्तरदायित्वपूर्ण कार्य है। जो लोग दूसरों की सेवा करने की भावना रखते हैं। उनको ये कोर्स जरूर करना चाहिए। वे इससे न सिर्फ सबकी सेवा भी कर सकते हैं। बल्कि अपने पैरों पर भी खडे हो सकते हैं। और एक अच्छी तनख्या भी कमा सकते हैं।

जैसे ही हम नर्स का नाम सुनते हैं बैसे ही ऐसा लगता है कि यह क्षेत्र सिर्फ और सिर्फ महिलाओं के लिए ही है। लेकिन आपको बता दें कि ऐसा नहीं है। आपको ये भी बता दें कि ऐसा इसलिए माना जाता है क्यूंकि महिलाएं ज्यादा अच्छे तरीके से देखभल करती हैं लेकिन ऐसा नहीं है कि यह क्षेत्र केवल महिलाओं के लिए ही है। इस क्षेत्र में दोनों ही महिला हों या पुरुष अपना भविष्य बना सकते हैं। जो लोग दूसरों की सेवा करने की भावना रखते हैं। उनको ये कोर्स जरूर करना चाहिए। वे इससे न सिर्फ सबकी सेवा भी कर सकते हैं।बल्कि अपने पैरों पर भी खडे हो सकते हैं। और एक अच्छी तनख्या भी कमा सकते हैं।

क्या है नर्सिंग ? (What is Nursing ?) :-
नर्सिंग के क्षेत्र में कई तरह के कोर्स होते हैं। जैसे कि डिप्लोमा, अंडर ग्रेजुएट एवं सर्टिफिकेट आदि। अपनी योग्यता और रुचि के अनुसार छात्र चुनाव कर सकते हैं। अगर आपने नर्सिंग में बीएससी की है तो इसके बाद आप पोस्ट ग्रेजुएशन का कोर्स भी कर सकते हैं। इसके तहत आप डाइटेटिक्स, कार्डियोलॉजिस्ट, पीडियाट्रिक्स, ऑप्थेल्मोलॉजी, ऑथरेपेडिक्स आदि विभिन्न क्षेत्रों में भी विशेषज्ञता हासिल कर सकते हैं। आपको बता दें कि अगर आप पोस्ट ग्रेजुएट होना चाहते हैं तो आप इस क्षेत्र में एमफिल और पीएचडी भी कर सकते हैं। आपको बता दें कि nuring entrance exam  के आधार पर ही अधिकांश अच्छे संस्थानों में दाखिला होता है।

नर्सिंग में करियर :-
अगर आप नर्सिंग करना चाहते हैं तो आप सहायक नर्स/ मिडवाइफ/ हेल्थ वर्कर (एएनएम) कोर्स से शुरू कर सकते हैं। ये कोर्स दो वर्ष का होता है। एएनएम कोर्स प्रशिक्षण प्रदान करता है कि ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों, विशेषकर बच्चों, माताओं और वृद्ध व्यक्तियों के स्वास्थ्य संबंधी आवश्यकताओं की देखभाल कैसे करें। एएनएम ऑक्सिलीरी नर्सिंग मिडवाइफ़री के लिए खड़ा है यह एक डिप्लोमा कोर्स है जो विभिन्न व्यक्तियों के स्वास्थ्य देखभाल के अध्ययन पर ध्यान केंद्रित करता है। यह भी बताता है कि कैसे उपकरण का ध्यान रखना, संचालन थियेटर की स्थापना, रोगी को समय पर दवा प्रदान करना और रिकॉर्ड बनाए रखना। एएनएम पाठ्यक्रम छात्रों को प्रशिक्षित करता है और उन्हें मूल स्वास्थ्य श्रमिकों के रूप में काम करने में सक्षम बनाता है। एएनएम स्नातकों बच्चों, महिलाओं और बुढ़ापे लोगों के उपचार के प्रति मुख्य ध्यान दिया जाता है।

इसके अलावा आप जनरल नर्स मिडवाइफरी (जीएनएम) कोर्स भी कर सकते हैं। ये साढे तीन साल का होता है। जीएनएम को जनरल नर्सिंग और मिडवाइफरी कहा जाता है जो सामान्य स्वास्थ्य देखभाल, नर्सिंग और दाई का काम में नर्सों की शिक्षा से संबंधित है। जीएनएम नर्सिंग कार्यक्रम में सामान्य नर्सों को तैयार करना है जो स्वास्थ्य टीम के सदस्यों के रूप में कार्य करते हैं। इसके अलावा आप नर्सिंग स्कूलों या कॉलेज से नर्सिंग में स्नातक भी कर सकते हैं। बीएससी (नर्सिंग) पाठ्यक्रम चार वर्ष का है। बीएससी नर्सिंग कोर्स नर्सिंग, फिक्स्ड एड्स और मिडवाइफ़री के बारे में बुनियादी जानकारी प्रदान करते हैं। वे नर्सिंग के सभी सैद्धांतिक और व्यावहारिक पहलुओं में प्रशिक्षित होते हैं। इसके बाद आप एमएससी नर्सिंग भी कर सकते हैं। इन के अलावा आप पोस्ट-बेसिक स्पेशियलटी (एक वर्षीय डिपलोमा) करके विभिन्न क्षेत्रों में विशेषज्ञता भी पा सकते हैं।

कार्डियोलॉजिकल नर्सिंग
क्रिटिकल केयर नर्सिंग
नेफ्रोलॉजिकल नर्सिंग
न्यूरो-साइंस नर्सिंग
साइक्रेट्रिक नर्सिंग
पीडियाट्रिक नर्सिंग
ऑर्थोपीडिक नर्सिंग
ऑनकोलॉजिकल नर्सिंग

नर्सिंग के लिए योग्यता :-

शैक्षिक योग्यता-

एएनएम :-

अगर आपको सहायक नर्स/ मिडवाइफ/ हेल्थ वर्कर (एएनएम) कोर्स करना है ते आपकी न्यूनतम योग्यता कम से कम 12 वीं पास (आर्टस या विज्ञान सटीर्म) होनी चाहिए। आयु 17 से 35 के बीच होनी चाहिए।

जीएनएम नर्सिंग :-

इसके लिए कम से कम योग्यता 12 वीं पास होनी चाहिए वो भी भौतकी, रसायन, जीव विज्ञान के साथ। और साथ ही कम से कम 40% से 50% अंक भी होने चाहिए। आयु 17 से 35 के बीच होनी चाहिए।

बीएससी (नर्सिंग) :-

इसके लिए 10 + 2 परीक्षा भौतिकी, रसायन, अंग्रेजी, जीव विज्ञान विषय सहित उत्तीर्ण होनी चाहिए। 10 + 2 अथवा इंटरमीडिएट परीक्षा में कम-से-कम 55 प्रतिशत अंक भी होने चाहिए। आयु 17 से 35 के बीच होनी चाहिए।

नौकरी की संभावनाएं :-

जब आप इस नर्सिंग कोर्स को कर लेते हैं। तो आपकी शुरुआत होती है अस्पतालों में स्टाफ नर्स के तौर पर। फिर आप 2-3 साल में वार्ड सिस्टर बन जाती हैं। नर्सिंग करने के बाद आप सरकारी और निजी अस्पतालों में नौकरी कर सकते हैं। इतना ही नहीं इसके अलावा आप स्कूल हेल्थ नर्सेस, इंडस्ट्रीयल नर्स और आर्म्ड फोर्सेस, ड्रग कंपनी, कम्युनिटी हेल्थ नर्सेस, स्पेशल क्लिनिक व केयर सेंटर और काउंसलिंग सेंटर में भी नौकरी कर सकते हैं। साथ ही आप नर्सिंग कॉलेजों में टीचर भी बन सकते हैं। साथ ही आप 12वीं के बाद बीएससी नर्सिंग कर सेना में नर्स बनने के लिए आवेदन कर सकते हैं।

नर्सिंग कोर्स फीस :-
नर्सिंग की पढाई का खर्च कॉलेज और प्रदेशों स्थानों के अनुसार भिन्न भी हो सकते है। सरकारी कॉलेज और सरकारी सहायता प्राप्त कॉलेज की फीस निजी कॉलेज से कम होती है।

एनएनएम की फीस –

भारत में पाठ्यक्रम के लिए औसत ट्यूशन शुल्क का शुल्क 10,000 रुपये से 5 लाख रुपयेके बीच होती है।
जीएनएम

भारत में पाठ्यक्रम के लिए औसत ट्यूशन शुल्क का शुल्क 4 साल की अवधि के लिए 10,000 से 5 लाख रूपये के बीच होती है।

बीएससी नर्सिंग की फीस –

औसत कोर्स शुल्क प्रति वर्ष 8,000 से 30,000 रुपये के बीच है। पाठ्यक्रम का उद्देश्य अस्पताल और समुदाय में समस्या-सुलझाने के दृष्टिकोण के आधार पर व्यापक नर्सिंग देखभाल प्रदान करने में ज्ञान और कौशल में दक्षता का प्रदर्शन करना है। बीएससी नर्सिंग कैरियर विकल्प में अस्पतालों, नर्सिंग होम, क्लीनिक और स्वास्थ्य विभाग, रेलवे और रक्षा आदि जैसे क्षेत्रों में रोजगार शामिल हैं।

नर्सिंग पाठ्यक्रम  :-

एएनएम के लिए पाठ्यक्रम:-

पाठ्यक्रम संरचना के बारे में बेहतर विचार प्राप्त करने के लिए, इस पाठ्यक्रम में मौजूद कुछ महत्वपूर्ण विषयों के माध्यम से चलें। महत्वपूर्ण विषयों को सूचीबद्ध किया गया है।

सामुदायिक स्वास्थ्य नर्सिंग
पोषण
पर्यावरण स्वच्छता
स्वच्छता
संक्रमण और टीकाकरण
प्राथमिक चिकित्सा
प्राथमिक चिकित्सा देखभाल
संचारी रोग
सामुदायिक स्वास्थ्य समस्याओं
बाल स्वास्थ्य देखभाल
दाई का काम
मानसिक स्वास्थ्य
स्वास्थ्य केंद्र प्रबंधन

जीएनएम पाठ्यक्रम:-

वर्ष (I) के लिए पाठ्यक्रम:

जैविक विज्ञान
शरीर रचना विज्ञान और शरीर विज्ञान
कीटाणु-विज्ञान
व्यावहारिक विज्ञान
मनोविज्ञान
नागरिक सास्त्र
नर्सिंग की बुनियादी बातें
प्राथमिक चिकित्सा
व्यक्तिगत स्वच्छता
सामुदायिक स्वास्थ्य नर्सिंग- I
सामुदायिक स्वास्थ्य नर्सिंग
पर्यावरण स्वच्छता
स्वास्थ्य शिक्षा और संचार कौशल
पोषण
अंग्रेज़ी

वर्ष II के लिए पाठ्यक्रम:

मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग I
मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग
औषध
मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग II (स्पेशलिटीज)
संचारी रोग
आर्थोपेडिक नर्सिंग
कान, नाक और गला
कैंसर विज्ञान / त्वचा
ऑप्थाल्मिक नर्सिंग
मानसिक स्वास्थ्य और मनोरोग नर्सिंग
सामुदायिक स्वास्थ्य नर्सिंग
कंप्यूटर शिक्षा

वर्ष III के लिए पाठ्यक्रम:

मिडवाइफरी और गायनोकोलॉजी नर्सिंग
सामुदायिक स्वास्थ्य नर्सिंग- II
बाल चिकित्सा नर्सिंग
इंटर्नशिप अवधि
नर्सिंग के अभ्यास में शिक्षण के लिए शैक्षिक तरीके और मीडिया
अनुसंधान के लिए परिचय
व्यावसायिक रुझान और समायोजन
प्रशासन और वार्ड प्रबंधन
स्वास्थ्य अर्थशास्त्र

बीएससी नर्सिंग पाठ्यक्रम: –

जो उम्मादवार नर्सिंग करना चाहते हैं उनको बता दें कि उनको बता देंं कि विभिन्न विश्वविद्यालयों और कॉलेजों द्वारा निर्धारित बीएससी नर्सिंग पाठ्यक्रम निम्नवत हैं-

वर्ष (I) के लिए पाठ्यक्रम:

एनाटॉमी (Anatomy)
फिजियोलॉजी (Physiology)
पोषण (Nutrition)
जीव रसायन (Biochemistry)
हिंदी या क्षेत्रीय भाषा
लाइब्रेरी कार्य
सह पाठ्यक्रम गतिविधियां
नर्सिंग फाउंडेशन (Theory and Practical)
मनोविज्ञान (Psychology)
कीटाणु-विज्ञान (Microbiology)
कंप्यूटर का परिचय
अंग्रेज़ी

वर्ष II के लिए पाठ्यक्रम:

नागरिक सास्त्र (Sociology)
औषध (Pharmacology)
पैथोलॉजी और जेनेटिक्स
लाइब्रेरी कार्य
सह पाठ्यक्रम गतिविधियां
मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग
सामुदायिक स्वास्थ्य नर्सिंग
संचार और शैक्षिक प्रौद्योगिकी (Communication and Educational Technology)

वर्ष III के लिए पाठ्यक्रम

दाई का काम और प्रसूति नर्सिंग (Midwifery and Obstetrical Nursing)
लाइब्रेरी कार्य
सह पाठ्यक्रम गतिविधियां
मेडिकल सर्जिकल नर्सिंग
बाल स्वास्थ्य नर्सिंग
मानसिक स्वास्थ्य नर्सिंग

वर्ष IV के लिए पाठ्यक्रम:

दाई का काम और प्रसूति नर्सिंग (Midwifery and Obstetrical Nursing)
सामुदायिक स्वास्थ्य नर्सिंग- II
नर्सिंग रिसर्च एंड स्टेटिस्टिक्स
नर्सिंग सर्विसेज और शिक्षा का प्रबंधन (Management of Nursing Services and education)
लाइब्रेरी कार्य
सह पाठ्यक्रम गतिविधियां

इंटर्नशिप (समन्वित अभ्यास):

मेडिकल-सर्जिकल नर्सिंग (Medical-Surgical Nursing (Adult and geriatrics))
बाल स्वास्थ्य नर्सिंग (Child Health Nursing)
मानसिक स्वास्थ्य नर्सिंग
दाई का काम और प्रसूति नर्सिंग (Midwifery and Obstetrical Nursing)
सामुदायिक स्वास्थ्य नर्सिंग II (Community Health Nursing II)
(Mental health Nursing)
Research Project

नर्सिंग प्रवेश प्रक्रिया :-
ज्यादातर संस्थान ‘प्रत्यक्ष प्रवेश प्रक्रिया’ का पालन करते हैं 10 + 2 बोर्ड परीक्षा में उनके द्वारा किए गए अंकों के आधार पर योग्य आवेदकों के लिए सीटें आवंटित की जाती हैं। कुछ प्रतिष्ठित संस्थानों के मामले में, प्रवेश प्रक्रिया में निजी स्क्रीनिंग टेस्ट और इंटरव्यू का भी उपयोग किया जाता है।

About Post Author

Rahul

<strong>I'm Rahul</strong> Founder of <strong>careerjankari.in</strong> , Career jankari is a free Hub for knowledge about different fields of education and current affair news . We first started as a local magazine in 2013 and in 2019 we started our online journey to severe the world with the most and unbiased news & educational Blog .
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Rahul

I'm Rahul Founder of careerjankari.in , Career jankari is a free Hub for knowledge about different fields of education and current affair news . We first started as a local magazine in 2013 and in 2019 we started our online journey to severe the world with the most and unbiased news & educational Blog .

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply