Career in Fisheries – Scope , Eligibility , Job

भारत आज विश्व का तीसरा बड़ा मछली उत्पादक देश बन गया है। भारत आज विश्व में फिश प्रोडक्ट का भी बड़ा सप्लायर है। जाहिर सी बात है, इस लगातार बढ़ते सेक्टर में युवाओं के लिए रोजगार की संभावनाएं भी बढ़ गई है। आज हम – Scope , Eligibility , Job के बारे में बताने जा रहे हैं।

career in fisheries –

फिशरीज में कॅरिअर कहने को तो यह बड़ा ही साधारण लगता है , लेकिन आज के दौर में यह एक तेजी से उभरता हुआ कॅरिअर बन चुका है। बढ़ती मांग के कारण इस क्षेत्र में रोजगार के अवसर भी दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है।

fisheries in india

पिछले एक दशक में फिशरीज क्षेत्र में बड़ी तेजी से बदलाव आया है। पहले लोग केवल अपने शौक के लिए या खान-पान के लिए ही मछली पालन करते थे। लेकिन बढ़ती मांग के कारण अब भारतीय तथा मल्टीनेशनल कंपनियां भारी इंवेस्टमेंट कर रही है।। गल्फ तथा अफ्रिकन देशों में इससे संबंधित प्रोफेशनलों की भारी मांग है। हमारे यहां के मछलियों का दुनिया के और देशों में काफी बढ़ गया है।

fisheries course

कोर्स :-

Bachelor’s Courses –

Bachelor of Fisheries Science (B.F.Sc) – 4 years
Bachelor of Science (Industrial Fish and Fisheries) – 3 years
B.Sc. (Fisheries) – 3 years
B.Sc. (Aquaculture) – 3 years


Master’s Courses :-

Master’s of fisheries science (M.F.Sc) – 2 years
Master’s of Science (M.Sc) – 2 years

योग्यता :-

फिशरीज कोर्सेज में प्रवेश के लिए बायोलॉजी विषय में न्यूनतम 55 प्रतिशत अंकों के साथ 10+2 मान्यता प्राप्त बोर्ड से उत्तीर्ण होना अनिवार्य है।

scope of career in fisheries

संभावनाएं :-

भारत के लगभग 8 मिलियन लोग प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से इस क्षेत्र पर निर्भर हैं। भारत मछली निर्यात के क्षेत्र में सातवां स्थान रखता है। विशेषज्ञों का मानना है कि आने वाले दिनों में फिशरीज उद्योग 16 प्रतिशत की दर से बढ़ने की संभावनाएं हैं।

इस क्षेत्र में प्रशिक्षित युवाओं की पहले से ज्यादा आवश्यकता है। फिशरीज एक्सपर्ट शिक्षण-प्रशिक्षण, प्रेसेसिंग एंड प्रोडक्शन, प्रिजर्वेशन, मेरिनकल्चर, फिश फॉर्म से संबंधित कारपोरेट सेक्टर, नाबार्ड, रिसर्च सेक्टर में कार्य कर सकते हैं। यदि आप स्वरोजगार करना चाहते हैं, तो सरकारी एवं गैर सरकारी बैंकों से लोन आसानी से प्राप्त हो जाएगा। जिससे आसानी से अपना start-up भी कर सकते हैं।

fisheries course scope

fisheries courses in india

fisheries college

प्रमुख संस्थान :-

  • सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ फिशरीज एजुकेशन, मुंबई
  • कॉलेज ऑफ फिशरीज साइंस, वेरावल ढोली (बिहार)
  • कॉलेज ऑफ फिशरीज साइंस, भुवनेश्वर
  • कोच्ची यूनिवर्सिटी ऑफ साइंस एंड टेक्नोलॉजी, कोच्ची
  • इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, खड़गपुर
  • कर्नाटक यूनिवर्सिटी, धारवाड़
  • कॉलेज ऑफ फिशरी साइंसेज, पंतनगर, उत्तराखंड ।
  • सेंट्रल मरीन फिशरीज रिसर्च इंस्टीट्यूट, कोच्चि, केरल !
  • कॉलेज ऑफ फिशरी, रत्नागिरी, महाराष्ट्र ।।।
  • नेशनल ब्यूरो ऑफ फिश जेनेटिक रिसोर्सेज, लखनऊ, उत्तर प्रदेश
    www.nbfgr.res.in
  • सेंट्रल इनलैंड फिशरीज रिसर्च इंस्टीट्यूट, पश्चिम बंगाल
    www.cifri.ernet.in
  • कॉलेज ऑफ फिशरीज, धोली, बिहार
    www.pusavarsity.org.in/cof.htm
  • जी.बी. पंत यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रिकल्चर एंड टेक्नोलॉजी पंतनगर, उत्तराखंड
    www.gbpuat.ac.in
  • राजस्थान एग्रिकल्चर यूनिवर्सिटी, बीकानेर, राजस्थान
    www.raubikaner.org
  • पंजाब एग्रिकल्चर यूनिवर्सिटी, लुधियाना, पंजाब
    www.pau.edu
  • सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ फिशरीज टेक्नोलॉजी, कोच्चि, केरल
    www.cift.res.in
  • सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ फ्रेशवॉटर एक्वाकल्चर, भुवनेश्वर, उड़ीसा
    www.cifa.in
  • असम एग्रिकल्चर यूनिवर्सिटी, असम
    www.aau.ac.in
  • जूनागढ़ एग्रिकल्चर यूनिवर्सिटी,गुजरात
    www.jau.in/cof
  • शेर-ए कश्मीर यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रिकल्चर साइंस एंड टेक्नोलॉजी ऑफ कश्मीर, कश्मीर
    Skuastkashmir.ac.in

career option in fisheries

जॉब :-

केंद्र और राज्य सरकारों के कई विभागों में सरकारी जॉब्स के अच्छे अवसर मुहैया हैं। ऐसे लोग गवर्नमेंट एजेंसीज, कृषि विभाग, सेंट्रल मरीन फिशरीज रिसर्च इंस्टीट्यूट्स, सेंट्रल इंस्टीट्यूट ऑफ फिशरीज टेक्नोलॉजी या राष्ट्रीय फिशरीज डेवलपमेंट ऑफिसर, फिशरीज एक्सटेंशन अफसर या रिसर्चर बन सकते हैं। राष्ट्रीयकृत बैंको के अलावा कॉलेज या यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर बन सकते हैं।


प्राइवेट सेक्टर की फूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्रीज, एक्वाकल्चर फर्म्स, सीड प्रोडक्शन फर्म्स या सी-फूड एक्सपोर्ट कंपनीज में भी फिशरी साइंस के ग्रेजुएट्स के लिए नौकरी के अच्छे मौके हैं। अगर स्वरोजगार करना चाहें तो फिर एक्सपोर्ट बिजनेस, सीड प्रोडक्शन, मछली पालन या कंसल्टेंसी सर्विस के रूप में खुद काम कर सकते हैं।।।।

job titles of fisheries :-

  • Fisheries Biologist
  • Fisheries Extension Officer (AEO)
  • Fisheries Officer
  • Fishery Manager
  • Fishery technician
  • Fishery Observer ।।।
  • Assistant Fisheries Development Officer (AFDO)
  • District Fisheries Development Officer

सैलरी :-


फिशरीज साइंस में ग्रेजुएट्स शुरुआत में 20 से 25 हजार रुपए की सैलरी पाने लगते हैं। अनुभव बढ़ने पर इस फील्ड में कमाई की कोई सीमा नहीं है। एक्सपोर्ट के बिजनेस से लाखों कमा सकते हैं।

इसी तरह की और भी कैरियर से संबंधित जानकारी के लिए हमारे साथ जुड़े रहे –

Career jankari

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *