यारों की यारी – फ्रेंड्सिप डे स्पेशल

” मजा आता है किसी को सताने में,
रूठे ना कोई तो मजा क्या मनाने में,
एक दोस्त से ही तो खुशी है,
वरना रखा क्या है इस जिंदगी और जमाने में “!!!


दोस्ती एक ऐसा रिश्ता है जिन्हें हम चुनते हैं यह जो शायरी थी मेरे सभी दोस्तों के लिए थी।मैं उस दोस्ती की बात कर रहा हूं जिससे आप अपनी मन की सारी बात शेयर कर सकते हैं या वैसे दोस्त जो खुशी में ही नहीं दुख में भी आपके साथ खड़ा रहे।ऐसी दोस्ती अब शायद ही देखने को मिलती है। दोस्ती का मतलब हम लोग शायद भूलते जा रहे हैं।आज कल की रियल दोस्ती फेसबुक और इंस्टाग्राम पर रह गई है।
मेरे अनुसार दोस्ती का मतलब होता है एक दूसरे का साथ देना या अगर कोई एक दोस्त बुरा कर रहा हो तो उसे बुरे काम करने से मना करना,दोस्ती का मतलब होता है आपकी सारी प्रॉब्लम को सॉल्व कर दे और आपको पता भी ना चले कि वह प्रॉब्लम किसने सॉल्व किया है,एक दूसरे की टांग खींचना मस्ती करना इत्यादि ।।।


लेकिन आज के समय में अधिकांश दोस्ती ठीक इसका उलटा हो गई है। आज की दोस्ती सिर्फ दिखावा रह गई है।आज की अधिकांश दोस्ती पैसा जाती और धर्म देखकर की जाती है।

शुक्र है मेरे जितने भी दोस्त हैं वे ये सब के बारे में नहीं सोचते हैं। आज के समय में अगर लड़का लड़की दोस्त बनते हैं तो सिर्फ एक ही नजर से देखते हैं। पहले के समय भी यही नजर थी लेकिन कम थी।एक लड़का और लड़की कभी दोस्त नहीं बन सकते ऐसा सब क्यों कहते हैं?क्यों यह गलत नहीं है ? मेरे हिसाब से तो एक लड़का और एक लड़की भी अच्छे दोस्त बन सकते हैं।आपको क्या लगता है मेरा नजरिया सही है या आपका नजरिया सही है।

“हम दोस्तों को भूलते नहीं है, मगर यह बात जताते नहीं हैं, दोस्तों को रखते हैं हमेशा याद, हम बोलने के लिए दोस्त बनाते नहीं है ।”

वैसे तो मेरे दोस्त बहुत कम हैं मगर जितने भी हैं सारे लाजवाब है।लेकिन अगर मुझसे पूछा जाए कि दोस्ती का मतलब आपको किससे ने समझाया या आपके बेस्ट फ्रेंड में से कौन है तो मेरे मन में सिर्फ दो चेहरे याद आता है।
एक जिसने मुझे हंसना सिखाया और दूसरे ने मुझे जीने का तरीका सिखाया,एक जिसने दोस्ती निभाना सीखाया और दूसरे ने दोस्ती करना सीखाया।
मैं जब भी किसी प्रॉब्लम में फंसा हूं तो यह दोनों ने मुझे हमेशा निकाला है।मैं इन दोनों का नाम तो नहीं बता सकता लेकिन इतना कह सकता हूं कि अगर वह दोनों यह ब्लॉग पढ़ रहे होंगे तो वह समझ जाएंगे कि मेरे बारे में लिखा है।
मैं पहले के लिए कुछ लाइन बोलना चाहता हूं:-

“प्यार गजल है गुनगुनाने के लिए, दोस्ती नगमा है सुनने के लिए,
ये वो रिश्ते हैं जो सबको नहीं मिलता , क्योंकि हौसला चाहिए इन्हें निभाने के लिए।”


दोस्ती निभाई कैसी जाती है तुमसे पता चला।
अब जरा उसके बारे में भी बात कर ली जिसने मुझे दोस्ती करना सिखाया।मेरे मन में जो भी कोई बात हो सबसे पहले आकर इसे बताना,एक दूसरे की टांग खींचना..तुम्हारे लिए भी एक शायरी है जरा गौर कीजिएगा:-

“मेरी हंसी का हिसाब कौन करेगा, मेरी गलती को माफ़ कौन करेगा, ऐ खुदा मेरे इस खास दोस्त को सलामत रखना, वरना मेरी शादी में नागिन डांस कौन करेगा। “

जीवन में एक मित्र ” श्री कृष्ण ” के जैसा होना चाहिए जो आपके लिए युद्ध न करें लेकिन आपको जीवनभर सही रास्ता दिखाता रहे और एक मित्र कर्ण के जैसा होना चाहिए जो आपके गलत होने पर भी आपका साथ कभी न छोड़े आपके साथ युद्ध करे ,अंजाम तो कर्ण को पता था लेकिन अपनी दोस्ती के लिए फिर भी युद्ध लड़ा।इसी तरह मेरे यह दोनों दोस्त मुझे विश्वास हमेशा मेरा साथ देंगे और मुझे कभी भी अकेला नहीं छोड़ेंगे।
यह मेरे उन सभी दोस्तों के लिए जिन से मेरी बात होती है या गलती से मैं उन्हें भूल गया हूं:-

शायद फिर वो तकदीर मिल जाए, जीवन के वो हंसी पल मिल जाए , चल फिर से बैठे वो क्लास की लास्ट बेंच पें, शायद फिर से वो पुराने दोस्त मिल जाए।”

“किस हद तक जाना है यह कौन जानता है, किस मंजिल को पाना है यह कौन जानता है, दोस्ती के दो पल जी लो जी भर जी लो, किस रोज बिछड़ जाना है यह कौन जानता है।”


दोस्ती करनी है तो दिल से करो दिमाग से नहीं मैंने तो दिल से की है क्या अपने दिल से की है?

हैप्पी फ्रेंडशिप डे


Written by :- RAKESH KUMAR

अगर हमारा ये ब्लॉग आपको अच्छा लगे तो इसे दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे और एक- दुसरे के बीच खुशियां बांटें ——–

– धन्यवाद

कैरियर जानकारी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *